Its rainin again...


ठीक वैसे जैसे ख्वाहीश होती है
सबकी अपनी अपनी बारीश होती है
- मिलिन्द गढवी

3 comments:

jaanvi said...

kya baat hai..!!

सबकी अपनी अपनी बारीश होती है...so true .!aur sab ka apna apna aasmaan bhi hota hai...

RADHEKRISHNA said...

wow....so nice...

ashok said...

Sav sachi vat che.